Tapodhana Jājūjī, śatābdi varsha 1882-1982

Copertina anteriore
Srīkr̥shṇadāsa Jājū Janma-Śatī-Samāroha Samiti, 1982 - 48 pagine
Life and works of Śrīkr̥shṇadāsa Jājū, 1882-1955, a Bhoodan leader from Madhya Pradesh.

Dall'interno del libro

Cosa dicono le persone - Scrivi una recensione

Nessuna recensione trovata nei soliti posti.

Sommario

Sezione 1
3
Sezione 2
12
Sezione 3
19
Copyright

1 sezioni non visualizzate

Altre edizioni - Visualizza tutto

Parole e frasi comuni

अपना अपनी अपने असत्य आगे आज आप इस इसके इसलिए उनका उनकी उनके उन्हें उन्होंने उस उसका उसके उसे एक ऐसा ऐसी और कभी कम कर करते करना करने का करनेवाले करें कहा काम कारण कार्य किया किसी की ओर कुछ के लिए केवल कोई क्या क्यों गया गयी गये घर चाहिए जब जा जाजू जाजूजी को जाजूजी ने जाय जीवन जो तक तथा तरह तो था था कि थी थे दिया दृष्टि देते देश ध्यान नहीं है नाम पत्थर पर पास पैसा प्रयत्न फिर बड़े बन बहुत बात बाद बापू बार बिना बोले भावना भी मन में मुझे मेरे मैं यदि यह यही या रहता रहते रहा है रहे हैं लगता लिया लोग लोगों वर्ष वस्तु वह वहाँ विचार वे व्यक्ति श्री सकता सत्य सब समय समाज साथ सामने सुख से सेवा हम हमारे हमें ही नहीं हुआ हुए हूं है और है कि हैं हो होकर होने

Informazioni bibliografiche